26 दिसंबर 2004 में आयी भारी तबाही से कई लाख लोग समा गए समुद्र की लहरों में, प्रशांत महासागर में आयी थी ये सुनामी। आज 26 दिसंबर के दिन वो दृश्य लोगों के आत्मा दहला देती है।

यह सुनामी भारत ही नहीं बल्कि विश्व के कई देशों में प्रलय ला दिया था। जिसमे इंडोनेशिया, श्रीलंका, चीन, जापान आदि।

9. 1 की तीव्रता से आयी ये सुनामी प्रशांत महासागर की 65 फुट ऊँची पानी की वेग ने बहुत सारे देश को ले डूबी थी।

कहा जाता है की ऐसी लहरें किसी भी समुन्द्र में 50 सालों में कभी नहीं देखी गयी।

इस समुंद्री लहरें से केवल भारत में ही 12,560 लोगों की मौत हुयी थी। इससे करीब 13 हजार करोड़ का नुकसान हुआ था।

कुल 12 देशों में ये लहरें तबाही मचाई जिससे 2.5 लाख लोगों की मृत्यु हुयी थी।

इसमें सबसे ज्यादा नुकसान इंडोनेशिया में हुयी जहाँ 1.9 लाख लोग मारे गए तथा 39 हजार लोग लापता हो गए।

इस देश के बाद श्रीलंका था जहाँ 38 हजार लोग मरे गए थे तथा 12 हजार लोग लापता हो गए।

पुरे विश्व में ये चौथी प्राकृतिक आपदा थी, जिसमे सबसे ज्यादा लोग मारे गए थे।

इसके बाद 1931 में चीन में आयी बढ़ के चलते 12 लाख से ज्यादा लोग मरे गए थे और 13 हजार लोग लापता हो गए।