इस फिल्म के माध्यम से डॉक्टर फ्रेड्डी गिनवाला के वास्तविक ज़िन्दगी और उनके स्वभाव के बारे में दिखाया गया है। जिसमे LEAD ROLE अभिनेता कार्तिक आर्यन को कास्ट किया है और डिरेक्ट किया है डायरेक्टर शशांक घोष ने।

इस फिम के डायरेक्टर शशांक घोस, प्रोडूसर एकता  कपूर तथा जय शेवाक्रमानी,म्यूजिक प्रीतम चक्रबॉर्ती और अभिनेत्री जेनिफर पिक्कीनातो है। इस फिल्म की सूटिंग अधिकतर घरेलु और कार्यालय जैसे जगहों पर हुयी है।

Fill in some text

डॉक्टर फ्रेड्डी गिनवाला जो एक शर्मीले स्वभाव और सामाजिक स्तर पर अकेले रहने वाला क्याक्ति है। जो अपने पर्सनल लाइफ में बहुत दुःखी और परेशान रहता है। ये उसके अपने व्यक्तिगत सोच है।

वह अपने मन की बात सिर्फ अपने पालतू कछुवे से करता है और वह उसे बहुत प्यार करता है। वह खुद से ज्यादा ध्यान अपने कछुवे पर देता है और यही बात समाज के लोगो को बहुत अजीब लगता है।

इस फिल्म में "कार्तिक आर्यन" जो डॉक्टर गिनवाला के किरदार निभा रहे है "कैनाज ईरानी " को देखते ही प्यार में पर जाता है और उसे पने के लिए हर सही या गलत काम करने लगता जिसका उसे अंदाजा भी नहीं होता।

वह अपने प्रेमिका को किसी भी कीमत पर पाना चाहता है लेकिन ''औरत को जबरन पाना किसी भी मर्द के लिए सही नहीं है " खासकर तब जब औरत की अपनी अपनी मर्जी न हो।

Fill in some text

इस MOVIE में डॉक्टर अपने एक तरफ़ा प्यार में इतना अँधा हो जाता है की वह हत्याएं करके जेल की सलाखों में भी जाता है और फिर भी वह अपने आदतों से बज नहीं आता है।

आर्यन और अलाया प्रारम्भ से ही एक दूसरे को जानते है, जहा आर्यन को कछुवा  पलने का सौक रहता तो अलाया को मछली पलने का। दोनों ही अपने उम्र के कारन एक दूसरे से काफी जल्द आकर्षित भी होते है।

यह एक ऐसी फिल्म नहीं है जहाँ सब कुछ अच्छी तरह समाप्त हो जाये इसमें कर्तिक के व्यव्हार अच्छे होने लगते है वही अलाया कव्यव्हार अजीब है जहा वह दिखती कुछ है और रहती कुछ और ही है।

इस MOVIE में DOCTOR के फ्रेड्डी एक कुशल कारगर होता है  जो अपने दातों में नुकीले औजारों को दबाये रखता है लेकिन फिर भी वह उसे खेलने नहीं देता क्यूंकि औजार बहुत ही धारदार होती है।