रतन टाटा के जन्मदिन की ढेर श्री शुभकामनायें : 33 साल पहले टाटा मोटर्स की इंडिका के फ्लॉप होने की वजह से नौबत यहां तक आ गई थी कि रत न टाटा ने पैसेंजर कार डिविजन बेचने का फैसला किया और इसके लिए फोर्ड मोटर्स से बात की थी।

 दिग्गज भारतीय उद्योगपति Ratan Tata आज 85 साल के हो गए।  उनका जन्म 28 दिसंबर 1937 में मुंबई में हुआ था।

एक सफल बिजनेसमैन, दरियादिल इंसान रतन टाटा बेहद  शांत स्वाभाव के हैं।  लेकिन जब बात स्वाभिमान पर आ जाये तो फिर सामने वाले की औकात दिखा देते है।

उन्होंने Ford Motors के चेयरमैन से अपने अपमान का बदला बड़े ही दिलचस्प अंदाज में लिया था।

बदले की कहानी : आज से 33 साल पहले "Tata Sons" के चैररमन के रूप में रतन टाटा ने अपनी कार "इण्डिका " को लॉन्च किया था। लेकिन मार्किट में लोगों को ये ज्यादा पसंद नहीं आया।

पसंद नहीं आने के वजह से कंपनी लगातार घाटे में चली गयी। तंग आकर रतन टाटा ने अपने (Passenger Car Business) को बेचने का इरादा बना लिया।

उन्होंने अपनी कंपनी बेचने के लिए अमेरिकन कार निर्माता "फोर्ड मोटर्स " से बात की थी। लेकिन इसके चेयरमैन ने मज़ाक उड़ाते हुए कहा, 'तुम कुछ नहीं जानते ' अगर मैं तुम्हारा कंपनी खरीदता हु तो तुमपर बड़ा अहसान होगा मेरा।

फोर्ड के मुँह से इतना बात सुनते ही रतन टाटा के दिल में तीर जैसे चुभा। उन्होंने कुछ नहीं बोलै और मुस्कुराते हुए धन्यवाद कहा और चले गए।

इसके बाद रतन टाटा ने कंपनी को बेचने का फैसला त्याग दिया और पूरा ध्यान कंपनी को उबारने में लगा दिया उन्होंने करि परिश्रम किये और कंपनी को 2008 में  दुनिआ के सबसे ज्यादा बिकने वाली कपनी में शामिल कर दिया।

उधर "टाटा मोटर्स " की हल खराब थी, बिल बोर्ड ने फन करके रतन टाटा से श्हयता मांगी और "जगुआर" तथा "लैंड रोवर" करें खरीदने की प्रार्थना की।