उत्तर प्रदेश के बरेली स्थित फरीदपुर के "कमला नेहरू कंपोजिट स्कूल" में प्रार्थना की जगह छात्र-छात्राओं से नात गवाए जाने का  वीडियो वायरल होने के बाद आरोपी टीचर मो बजरुद्दीन को गिरफ्तार कर लिया गया।

 विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने स्कूल की हेडमास्टरा और शिक्षामित्र पर बच्चों के धर्मांतरण कराने के लिए प्रेरित करने वाली प्रार्थना कराने का आरोप लगाया था।

मामले का वीडियो वायरल होने के बाद कार्यकर्ताओं ने थाने का घेराव किया था।  पुलिस ने दोनों शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। मामले में बीएसए ने शिक्षिका नायक सिद्दीकी को निलंबित कर दिया है।

 विश्व हिंदू परिषद के नगर अध्यक्ष सोमपाल राठौर ने बताया कि स्कूल में तैनात शिक्षामित्र बजरुद्दीन और शिक्षिका नायक सिद्दीकी कई महीनों से मदरसे में गाई जाने वाली नज्म 'लब पे आती है दुआ' करा रही थीं।

बच्चों ने अपने अभिभावकों से इसकी शिकायत की। फिर अभिभावकों ने विश्व हिंदू परिषद के जिला अध्यक्ष मानवेंद्र राणा को दोनों शिक्षकों की करतूत के बारे में बताया।

कार्यकर्ताओं ने चुपके से आरोपी शिक्षकों की करतूत की वीडियो बनाई।फरीदपुर इंस्पेक्टर दयाशंकर शर्मा ने बताया कि शिक्षामित्र को गिरफ्तार कर लिया गया है।

स्कूल में प्रधानाध्यापिका सहित चार शिक्षक तैनात हैं। दो दिनों से प्रधानाध्यापिका अपने सीनियर टीचर कमलेश कुमारी को छुट्टी  पर जाने की वजह से जिम्मेदारी सौंप राखी थी। वह प्रार्थना कराने का विरोध करती थीं।

सोमपाल राठौर ने बताया कि कई छात्र-छात्राएं शिक्षामित्र बजरुद्दीन की तरफ से कराई जाने वाली दूसरे समुदाय की प्रार्थना करने से इनकार करते थे। जिसके बाद उन्हें नाम काटने के लिए धमकाया जाता था।

कमलेश कुमारी ने कहा कि हमारे यहां "यह शक्ति हमें दो दयानिधि…” प्रार्थना होती है। वीडियो में जो प्रार्थना सुनाई दे रही है, वह नहीं होती।

 इस बारे में जब मैंने सर से बात की तो बताया कि यह प्रार्थना 1 से 5वीं क्लास की उर्दू की किताब में है। इसी का प्रैक्टिस कराई जा रही थी।