[PDF] Indian River Map in Hindi Download | भारतीय नदियों का मानचित्र पीडीऍफ़

Indian river map in Hindi: नमस्कार दोस्तों आज हम आप के लिए एक Indian River Map in Hindi का पीडीऍफ़ ले कर आये है | इस में हम आप को भारत की नदियों के बारे में संक्षिप्त में समझायेगे|

अपना भारत देश एक कृषि प्रधान देश है | और यहां पर बहुत सारी नदियों का उद्गगम होता है । नदी को मानव जाति की जीवनदायिनी के नाम से जानी जाती हैं| क्योकि अदिकांश भारत में नदियों के पानी से ही सिचाई होती है | भारत देश का आर्थिक और सांस्कृतिक विकास करने में नदियां का महतवपूर्ण योगदान रहा हैं।

आज कल के ओधोगिक कारखानों का जहरीला पानी नदियों में मिलने से नदियों का पानी भी पहले जेसे साफ नहीं रहा| भारत सरकार ने नदियों के पानी को साफ करने के कई बड़े कदम उठाए है और कई योजनाओ को भी चलाया है |

आज के इस पोस्ट में आप नदियों को हमने दो भागो में विभाजित किया है |(A) हिमालय से निकलने वाली नदिया (B) प्रायद्विपिये पठार से निकलने वाली नदिया (दक्षिण के पठार से निकलने वाली नदिया) तो चलिए दोस्तों अब हम आप को एक एक कर के सभी नदियों के बारे में समझाते है |

Details of Indian River Map in Hindi PDF File

PDF TitleIndian River Map PDF
PDF Size300 KB
Sourcehttps://pdffile.com
CategoryNotes PDF
Total Page 5

हिमालय से निकलने वाली नदिया | River originating from the Himalayas

  • सिन्धु नदी
  • गंगा नदी
  • बह्मपुत्र नदी

अब हम आप को यहाँ पर सभी नदियों के बारे ( Indian River Map in Hindi ) में समझायेगे तो इस आर्टिकल को ध्यानपूर्वक पढ़े |

और पढ़े : ITI Course list 2022

और पढ़े : वन्दे मातरम लिरिक्स

सिन्धु नदी | Sindhu River :

सिन्धु नदी तंत्र : सिन्धु नदी का भारत मे उद्गम स्थल हिमालय है। सिंधु नदी की उद्गम स्थल मानसरोहर झील के पास (सिन-का-बाबा) तिब्बत से निकलती है | ये तिब्बत से पश्चिम दिशा की ओर आगे बढ़ती हुई। सिंधु नदी भारत मे एक गॉर्ज (नदियो द्वारा पहाड़ को काटकर बनाया गया रास्ता) बनाकर लद्दाख के दमचोख नामक स्थान मे प्रवेश करती है।

यहाँ से सिन्धु नदी बलूचिस्तान, गिलगित जहाँ पर नंगा पर्वत से तीखा मोड लेते हुवे भारत का आखरी पॉइंट चिल्लास नामक स्थान से निकल कर पाकिस्तान में प्रवेश करती है | पाकिस्तान में कराची बंदरगाह इसी नदी पर बना है | अंतिम में जा कर सहायक नदियों के साथ मिल कर अरब सागर में गिर जाती है |

हम ने आप को सिन्धु नदी तंत्र को तथा सहायक नदीयो को एक लिस्ट के द्वरा समझया है |

Sindhu Indian River Map in Hindi

River NameLength (km)Originates From Ends inPlaces Benefited
सिन्धु नदी2880 kmमानसरोवर झीलअरब सागर तिब्बत, भारत, पाकिस्तान
झेलम नदी725 kmशेषनाग झीलपाकिस्तान भारत , पाकिस्तान
चिनाब नदी1800 kmबरंलाचा दर्रा पाकिस्तान भारत , पाकिस्तान
रवि नदी720 kmरोहतांग दर्रापाकिस्तान भारत , पाकिस्तान
व्यास नदी470 kmरोहतांग दर्रा के व्यास कुण्ड भारत भारत
सतलुज नदी1050 kmराक्षसताल हिमनद पाकिस्तान भारत , पाकिस्तान

गंगा नदी | Ganga River :

गंगा नदी तंत्र : गंगा नदी एक पवित्र नदी है | भारत देश में गंगा नदी को माता के रूप में पूजा जाता रहा है | गंगा नदी के जल में कभी कीड़े नहीं पनपते क्युकी गंगा नदी में बेट्रीया फेज नामक जीवाणु पाया जाता है | अब कुछ सालो से गंगा नदी के पानी में ओधोगिक कारखानों का जहरीला पानी मिलने के कारण बेट्रीया फेज जीवाणु की संख्या में कमी देखि गई है | भारत सरकार ने गंगा के लिए 2014 में नमामि गंगे योजना चलाई गई |

गंगा नदी का उद्गम उतराखंड के देव प्रयाग नामक स्थान से होता है | देव प्रयाग में भागीरथी तथा अलकनंदा नदीयो के संगम से गंगा नदी का उद्गम हुआ है | गंगा नदी भारत में 5 राज्यों से होकर बहती है | उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखण्ड और पश्चिम बंगाल| गंगा नदी की सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में बहती है तथा सबसे कम झारखंड में बहती है|

गंगा नदी सर्वप्रथम हरिद्वार में पर्वतीय भाग से मैदानी भागो में प्रवेश करती है| पश्चिम बंगाल में गंगा नदी दो भागो (भागीरथी और हुगली) में बंट जाती है| मुख्य नदी भागीरथी (गंगा) बांग्लादेश में प्रवेश कर जाती है और हुगली नदी पश्चिम बंगाल में दक्षिण की ओर बहते हुए बंगाल की खाड़ी में अपना जल गिराती है|

हम ने आप को गंगा नदी तंत्र को तथा सहायक नदीयो को एक लिस्ट के द्वरा समझया है |

Ganga Indian River Map in Hindi

River Name Length (km) Originates From Ends in Places Benefited
गंगा नदी 2525गंगोत्री बंगाल की खाड़ी उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखण्ड और पश्चिम बंगाल
घागरा नदी 1080मपचाचुगो हिमनद छपरा नेपाल, उतर-प्रदेश, बिहार
गंडक नदी 425नेपालसोनपुर नेपाल, बिहार
रामगंगा नदी 188गढ़वाल की पहाड़ी कन्नोज उत्तर प्रदेश
सरयू नदी 350मिलाम ग्लेशियेर नेपाल घाघरा उतराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार
महानंदा नदी 360दार्जलिंग की पहाड़ीपशिम बंगाल बिहार, पशिम-बंगाल, बांग्लादेश
कोसी नदी 730गोसाई धाम कुरसेला नेपाल, बिहार
यमुना नदी 1376येमुनोत्री प्रयागराज उतराखंड, हरियाणा, दिल्ली
चंबल नदी 1050/966जनपावा की पहाड़ी यमुना नदी में मध्यप्रदेश, राजस्थान, उतरप्रदेश
बेतवा नदी 480विध्न्चल रायसेन जिला मध्यप्रदेश , उतरप्रदेश
सिंध नदी 470लटेरी ताल विदिशा जिला जगामंपुर के पासभारत
केन नदी 427कैमूर की पहाड़ीबाँदा के पास मध्यप्रदेश , उतरप्रदेश
सोन नदी 780अमरकंटक की पहाड़ीआरा के पास
मध्यप्रदेश
हिंदन नदी 400शिवालिक श्रेणी दिल्ली के पास भारत

बह्मपुत्र नदी | Bahramputra River :

ब्रह्मपुत्र नदी तिब्बत, भारत तथा बांग्लादेश से होकर बहती है। भारतीय नदियों के नाम स्त्रीलिंग में होते हैं| लेकिन ब्रह्मपुत्र एक अपवाद है । संस्कृत भाषा में ब्रह्मपुत्र का शाब्दिक अर्थ बह्मा का पुत्र होता है |

नदी का उद्गम केलाश पर्वत के निकट मानसरोवर झील से माना जाता है | तिब्बत में इस को संग्पो नदी कहते है |जिसके बाद नामचा बार्वा पर्वत के पास दक्षिण-पश्चिम की दिशा में मुङकर भारत के अरूणाचल प्रदेश में घुसती है| जहं इसे सियांग कहते हैं|

अरूणाचल प्रदेश से निकल कर यह असम में पहुच जाती है जहां इसे दिहांग नाम से जाना जाता है। असम के डिब्रूगढ तथा लखिमपुर जिले के बीच नदी दो भागो में बट जाती है | फिर मंजुली नामक स्थान पर मिल कर मजुली द्वीप का निर्वाण करती है | जो दुनिया का सबसे बङा नदी-द्वीप है। असम में ही इसको बह्रम्पुत्र कहते है |

असम से निकलने के बाद यह बांग्लादेश में प्रवेश करती है | जहां पर इस की शाखा फिर से अनेक भागो में विभाजित हो जाती है। जिनमे एक धारा गंगा की एक धारा के साथ मिल कर मेघना नदी का निर्वाण करती है| बाकि सभी धाराएं बंगाल की खाङी में गिर जाती है |

हम ने आप को बह्रम्पुत्र नदी तंत्र को तथा सहायक नदीयो को एक लिस्ट के द्वरा समझया है |

Bahamputra Indian River Map in Hindi

River Name Length (km) Originates From Ends in Places Benefited
बह्मपुत्र नदी 2900 km मानसरोवर झील बंगाल की खाङी तिब्बत, अरुणाचल प्रदेश, असम, बंगलादेश
तीस्ता 309 kmपहुनरी गलेशिएर रंगपुरसिक्किम, पशिम बंगाल
सुवनश्री442 kmतिब्बत हिमालय लखीमपुर जिला तिब्बत, अरुणाचल प्रदेश, असम
लोहित200 kmजलाये छु पर्वत असमतिब्बत, अरुणाचल प्रदेश, असम
बराक900 kmमणिपुर बंगाल की खाङी मणिपुर, नागालेंड, मिजोरम, असम

प्रायद्विपिये पठार से निकलने वाली नदिया

प्रायद्वीपीय भारत में मुख्यतः जल का निर्माण पश्चिमी घाट द्वारा (प्रायद्वीपीय नदियां पश्चिमी घाट से उत्पन्न होती हैं) उत्पन्न होती हैं | प्रायद्वीपीय नदियों जल ग्रहण क्षेत्र कम उपजाऊ होता है हिमालय नदियों के जल ग्रहण क्षेत्र से | प्रायद्वीपीय भारत या दक्षिण भारत की नदियों को दो भागों में बटा गया है |

  • (a) अरब सागर में जल गिराने वाली नदियाँ
  • (b) बंगाल की खाड़ी में जल गिराने वाली नदियाँ

अरब सागर में जल गिराने वाली नदियाँ

River NameLength (km)Originates FromEnds inPlaces Benefited
दामोदर नदी 592 kmछोटा नागपुर का पठार बंगाल की खाड़ी झारखंड , रांची, पश्चिम बंगाल
स्वर्णरेखा नदी 474 kmरांची बंगाल की खाड़ी झारखंड, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल
वैतरणी नदी 360 kmक्योझर पठार (उड़ीसा)बंगाल की खाड़ी ओडिशा
ब्राह्मणी नदी799 kmरांची बंगाल की खाड़ी ओडिशा
महानदी 900 kmदण्डकरण्ये पठार(छत्तीसगढ़) बंगाल की खाड़ी छत्तीसगढ़, ओडिशा
गोदावरी नदी 1465 kmनासिककेत्रयम्बक(महाराष्ट्र)बंगाल की खाड़ी महाराष्ट्र, तेलंगाना, आंध-प्रदेश
कृष्णा नदी 1400 kmमहाबलेश्वर चोटी(महाराष्ट्र)बंगाल की खाड़ी महाराष्ट्र, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध-प्रदेश
पेनार नदी 597 kmकोलार(कर्नाटक)बंगाल की खाड़ी तेलंगाना, आंध-प्रदेश
कावेरी नदी 805 kmपुष्पगिरी (ब्रह्मगिरिपहाड़ी) बंगाल की खाड़ी कर्नाटक, तमिलनाडु
वैगई नदी 258 kmवरूषनादु पहाड़ी बंगाल की खाड़ी तमिलनाडु
ताम्रपर्णी नदी 128 kmअगस्त्यमलाई चोटीमन्नार की खाड़ी तमिलनाडु

बंगाल की खाड़ी में जल गिराने वाली नदियाँ

River NameLength (km)Originates FromEnds inPlaces Benefited
साबरमती 371 kmउदयपुर अरब सागर की खम्भात की खाड़ी राजस्थान, गुजरात
माही583 kmमध्य प्रदेश अरब सागर की खम्भात की खाड़ी मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात
नर्मदा 1312 kmअमरकंटक ( मध्य प्रदेश )अरब सागर की खम्भात की खाड़ी मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात
शरावती 128 kmकर्नाटक अरब सागर की खम्भात की खाड़ी कर्नाटक
तापी 700 km मध्य प्रदेश अरब सागर की खम्भात की खाड़ी मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात
पेरियार 244 kmतमिलनाडु अरब सागर की खम्भात की खाड़ी तमिलनाडु, केरल

Indian River Map in Hindi pdf Download link

1 thought on “[PDF] Indian River Map in Hindi Download | भारतीय नदियों का मानचित्र पीडीऍफ़”

Leave a Comment