Om Jai Jagdish Hare Aarti PDF | ॐ जय जगदीश हरे आरती पीडीऍफ़ डाउनलोड

Om Jai Jagdish Hare Aarti : नमस्कार आज की इस पोस्ट में हम आपके लिए Om Jai Jagdish Hare Aarti PDF का पीडीएफ फाइल लेकर आए हैं | तो आप यहां पर ॐ जय जगदीश हरे सम्पूर्ण आरती पढ़ सकते हैं | और पीडीऍफ़ फाइल भी डाउनलोड कर सकते हैं |

प्यारे भगतो आप को पता ही है Om Jai Jagdish Hare Aarti भगवन विष्णु की आरती है | भगवान विष्णु जी समस्त देवताओं में सबसे पूजनीय है | तथा समस्त सृष्टि में पालनहार माने जाते हैं | भगवान विष्णु की आरती ओम जय जगदीश सभी मंदिरों में बोली जाती है क्योंकि भगवान विष्णु हिंदू धर्म में सबसे अत्यधिक पूजे जाते हैं | Om Jai Jagdish Hare Aarti के रचयिता श्री पंडित श्रद्धा राम शर्मा जी ने 1870 ईस्वी में इस आरती की रचना की थी |

और पढ़े : शिव चालीसा इन हिंदी और अंगेजी

और पढ़े : गणेश जी की आरती इन हिंदी

और पढ़े : हनुमान चालीसा लिरिक्स इन हिंदी

Om Jai Jagdish Hare Aarti file details | ॐ जय जगदीश हरे आरती पीडीऍफ़ फाइल की जानकारी

Om Jai Jagdish Hare Aarti
Name of the PDF File Om Jai Jagdish Hare Aarti |( ॐ जय जगदीश हरे आरती )
PDF File Size 6.7 MB
Categories Religious
Source PDFHIND.COM
Uploaded on 21-12-2021
PDF Language HINDI & ENGLISH

ॐ जय जगदीश हरे आरती करने के फायेदे | Benefits of Om Jai Jagdish Hare Aarti

  • भगवन विष्णु जी की आरती करने से कृपा से सिद्धि-बुद्धि, धन-बल और ज्ञान-विवेक की प्राप्ति होती है।
  • भगवन विष्णु जी की आरती करने से मन को में पॉजिटिव उर्जा, मन में शांति बनी रहती है |
  • भगवन विष्णु जी की आरती करने से सुख शांति का भागीदार बनता है |
  • भगवान विष्णु जी की आरती करने से जीवन में आगे बढ़ने की शक्ति मिलती है |
  • भगवन विष्णु जी की आरती करने से जीवन में आये बुरे वक़्त से लड़ने की हिम्मत और साहस मिलता है |

ॐ जय जगदीश हरे सम्पूर्ण आरती लिरिक्स | Om Jai Jagdish Hare Aarti lyrics in hindi

ॐ जय जगदीश हरे
स्वामी जय जगदीश हरे
भक्त जनों के संकट
दास जनों के संकट
क्षण में दूर करे
|| ॐ जय जगदीश हरे ||
ॐ जय जगदीश हरे
स्वामी जय जगदीश हरे
भक्त जनों के संकट
दास जनों के संकट
क्षण में दूर करे
ॐ जय जगदीश हरे
जो ध्यावे फल पावे
दुःख बिनसे मन का
स्वामी दुःख बिनसे मन का
सुख सम्पति घर आवे
सुख सम्पति घर आवे
कष्ट मिटे तन का
|| ॐ जय जगदीश हरे ||
मात पिता तुम मेरे
शरण गहूं किसकी
स्वामी शरण गहूं मैं किसकी
तुम बिन और न दूजा
तुम बिन और न दूजा
आस करूँ मैं जिसकी
|| ॐ जय जगदीश हरे ||
तुम पूरण परमात्मा
तुम अन्तर्यामी
स्वामी तुम अन्तर्यामी
पारमब्रह्म परमेश्वर
पारमब्रह्म परमेश्वर
तुम सब के स्वामी
ॐ जय जगदीश हरे
तुम करुणा के सागर
तुम पालनकर्ता
स्वामी तुम पालनकर्ता
मैं मुरख फलकामी
मैं सेवक तुम स्वामी
कृपा करो भर्ता
|| ॐ जय जगदीश हरे ||
तुम हो एक अगोचर
सबके प्राणपति
स्वामी सबके प्राणपति
किस विधि मिलूं दयामय
किस विधि मिलूं दयामय
तुमको मैं कुमति
|| ॐ जय जगदीश हरे ||
दीन-बंधू दुःख हर्ता
ठाकुर तुम मेरे
स्वामी रक्षक तुम मेरे
अपने हाथ उठाओ
अपनी शरण लगाओ
द्वार पड़ा तेरे
|| ॐ जय जगदीश हरे ||
विषय-विकार मिटाओ
पाप हरो देवा
स्वामी पाप हरो देवा
(श्रद्धा भक्ति बढाओ)
सन्तन की सेवा
|| ॐ जय जगदीश हरे ||
ॐ जय जगदीश हरे
स्वामी जय जगदीश हरे
भक्त जनों के संकट
दास जनों के संकट
क्षण में दूर करे
|| ॐ जय जगदीश हरे ||
ॐ जय जगदीश हरे
स्वामी जय जगदीश हरे
भक्त जनों के संकट
दास जनों के संकट
क्षण में दूर करे
ॐ जय जगदीश हरे

ॐ जय जगदीश हरे आरती लिरिक्स अंगेजी में | Om Jai Jagdish Hare Aarti

Om Jai Jagdish Hare
Swami Jai Jagdish Hare
Bhakt Jano Ke Sankat
Daas Jano Ke Sankat
Kshan Me Door Kare
Om Jai Jagdish Hare
Om Jai Jagdish Hare
Swami Jai Jagdish Hare
Bhakt Jano Ke Sankat
Daas Jano Ke Sankat
Kshan Me Door Kare
Om Jai Jagdish Hare
Jo Dhyave Phal Paave
Dukh Binse Man Ka
Swami Dukh Binse Man Ka
Sukh Sampati Ghar Aave
Sukh Sampati Ghar Aave
Kasht Mite Tan Ka
Om Jai Jagdish Hare
Maat Pita Tum Mere
Sharan Gahun Kiski
Swami Sharan Gahun Kiski
Tum Bin Aur Na Duja
Tum Bin Aur Na Duja
Aas Karun Main Jiski
Om Jai Jagdish Hare
Tum Puran Parmatma
Tum Antaryami
Swami Tum Antaryami
Parmbrahma Parmeshwar
Parmbrahma Parmeshwar
Tum Sab Ke Swami
Om Jai Jagdish Hare
Tum Karuna Ke Sagar
Tum Palankarta
Swami Tum Palankarta
Main Murakh Phalkami
Main Sevak Sum Swami
Kripa Karo Bharta
Om Jai Jagdish Hare
Tum Ho Ek Agochar
Sabke Pranpati
Swami Sabke Pranpati
Kis Vidhi Milun Dyamay
Kis Vidhi Milun Dyamay
Tumko Main Kumti
Om Jai Jagdish Hare
Deen-Bandhu Dukh-Harta
Thakur Tum Mere
Swami Rakshk Tum Mere
Apne Hath Uthao
Apni Sharn Lagao
Dwar Pada Tere
Om Jai Jagdish Hare
Vishay-Vikaar Mitao
Paap Haro Deva
Swami Paap Haro Deva
Shraddha Bhakti Badao
Shraddha Bhakti Badao
Santan Ki Seva
Om Jai Jagdish Hare
Om Jai Jagdish Hare
Swami Jai Jagdish Hare
Bhakt Jano Ke Sankat
Daas Jano Ke Sankat
Kshan Me Door Kare
Om Jai Jagdish Hare
Om Jai Jagdish Hare
Swami Jai Jagdish Hare
Bhakt Jano Ke Sankat
Daas Jano Ke Sankat
Kshan Me Door Kare
Om Jai Jagdish Hare

Om Jai Jagdish Hare Aarti

Om Jai Jagdish Hare Aarti Video

Credit – Maanya Arora

Leave a Comment